Volunteer Login
Social Worker Login
Volunteer Registration
About us

 

From the Desk of  founder National president Mr. S.P. Sharma

Initial introduction of organization

"Jan Sansadhan Vikas Avom Jeev Kalyan Samiti" is a registered social Organization. It is registered with the Asistant registrar of firms and society, Jabalpur (MP) zone under the “ Madhya Pradesh Society Registrikaran Adhiniyam 1973 ( Serial 44 of 1973) dated 17th April 2008 under registration number 04/16/01/10298/08.

As on August 15, 2018 we have registered more than 44 Thousand volunteers with our project. We are working on our “Swarnim Bharat Nirman Project” for last 10 or more years and have prepared the model to get results according to our vision. Now the project is to be launched shortly Nation Wide.

 The Vision of organization

To build our great country  India “BHARAT” more and most prospers, Capable in all aspects, having planned projects for the solution of major problems just like the unemployment, poverty, illiteracy, Health Problems, addiction, water conservation, plantation, Population control, dowry etc.

We have submitted 50 aims with the registrar to cover up the maximum public problems.  We have registered our working area as all India.

Our Mission

To collaborate with the undeveloped / unemployed or needy / interested people and motivate / support them to bring in main stream as per their academic qualification / Experiences for specific field as well as their financial situation. We provide them a unique platform of professional social workers to assist financially / morally, issuing the grants from organizational system (This system is a unique combination of Social activities, Business, Media and political development through social networking) for education, medical, business and other essential requirements as per the project’s rules and regulations in accordance of Social activities done by them.

We have unique plan to grow the running business of people, Develop the specific qualities just like political, journalism etc. We also prepare the social base for good political personalities to promot the good people in Indian politics.

We always respect our States and Center Governments, Different social and political organizations, All our public representatives / Political personalities irrespective of diffrent parties and well wishers of our nation. We always need and request all for their support to success in our mission in the intrest of our nation and citizens of our country.

A polite appeal

We politely request and appeal to all our political personalities irrespective of different political parties, all social and religious organizations, all states and Center government of India, All the well wishers of Nation and all capable person of our country, just try to understand our project of “Swarnim Bharat Nirman”  and help us morally, financially or adopt the whole organization/ its projects personally or through your settled national social organization or be our Volunteers, Project coordinators, Life members, Patrons from block level to national level so that we will be able to get success in our vision fastly.



..................................................................................................................................................................

(संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष एस.पी.शर्मा की कलम से)


(संस्था का प्रारंभिक परिचय)


‘जन संसाधन विकास एवं जीव कल्याण समिति’ म.प्र. सोसाइटी रजिस्ट्रीकरण अधिनियम 1973 (1973 का क्रमंाक 44) के अंतर्गत, सहायक पंजीयक, फम्र्स एवं सोसाइटी, जबलपुर (म.प्र.) द्वारा दिनंाक 17 अप्रैल 2008 को क्रमंाक 04/06/01/10298/08 पर पंजीकृत की गयी है। संस्था का कार्यक्षेत्र संपूर्ण भारतवर्ष है।

 

(संस्था की दूर दृश्टि)


हम मुख्यतः साम्यवाद और समाजवाद के सिद्धांत पर कार्य करते हुए, सरकारी मानकों का अनुसरण करते हुए गरीबी और अमीरी के मध्य बढ़ते अंतर में सामंजस्य स्थापित करने में अपनी सरकारों एवं जन प्रतिनिधियों को अपने स्तर से सहयोग करना चाहते हैं।


अपने कार्यक्रम को फलीभूत करने हेतू हमने पंजीयक महोदय के पास 50 उद्देष्य पंजिकृत करायें है।


हम मुख्यतः, योजनाबद्ध तरीके से बेरोजगारी, गरीबी, भुखमरी, अषिक्षा, स्वास्थ्य समस्या, नषामुक्ति, जल एवं पर्यावरण संरक्षण, जनसंख्या वृद्धि, दहेज प्रथा आदि विशयों पर परिणाम जनक कार्यक्रमों का संचालन करते हुए इन समस्याओं के समूल निवारण हेतू कटिबद्ध है।


इस प्रकार हम अपने महान देष ‘भारत’ को अधिक से अधिक संपन्न एवं समृद्ध करने में अपनी राज्य सरकारों एवं केन्द्र सरकार की सभी लाभकारी योजनाओं को जन - जन तक पहुॅचाना चाहते हैं। क्योंकि हम यह मानकर चलते हैं कि अगर सभी सरकारी योजनाओं का क्रियान्वयन षत प्रतिषत, सही प्रकार से हो जाये तो हम एक बार फिर ‘स्वर्णिम भारत निर्माण’ की परिकल्पना को मूर्तरूप प्रदान कर सकेंगे।


हमारी कार्यप्रणाली एवं मिषन


अपने उद्देष्यों की पूर्ति हेतू हमने ‘स्वर्णिम भारत निर्माण’ की परिकल्पना पर, ‘सामाजिक गतिविधियंा, व्यापारिक गतिविधियंा, मीडिया, विधिक एवं राजनैतिक उत्थान’ का एक संयुक्त उपक्रम तैयार किया है।


इसके अंतर्गत आय का स्रोत भी तैयार किया गया है तथा लाभंाष वितरण का एक ऐसा सिस्टम बनाया गया है जिसमें हम व्यवसायिक सामाजिक कार्यकत्र्ताओं को किये गये सामाजिक कार्यों के अनूरूप मानदेय एवं अनुदान के रूप में निरंतर आर्थिक सहायता प्रदान कर सकते है।


15 अगस्त 2018 तक लगभग 44000 स्वयंसेवक, सामाजिक कार्यकत्र्ताओं का पंजीकरण इस परियोजना में करके ‘स्वर्णिम भारत निर्माण’ का एक अनन्य माॅडल तैयार किया गया है जिसे यथाषीघ्र लोकार्पित करने का प्रयास है।


हम इस परियोजना के माध्यम से अपनी योजनानुसार देष के नागरिकों का सर्वप्रथम एक व्यवसायिक सामाजिक कार्यकत्र्ता के रूप में प्रषिक्षित करते हैं और उनको षिक्षा, चिकित्सा, कारोबार तथा अन्य सामाजिक गतिविधियों हेतू कम्प्यूटराईज्ड सिस्टम से आर्थिक सहायता प्रदान करने का प्रयास करते हैं। ये आर्थिक सहायता कुछ रूपयों से लेकर लाखों रूपये तक की हो सकती है।


जो व्यापार कर रहे हैं या करना चाहते हैं उनके उत्थान हेतू एवं राजनैतिक रूचि वाले लोगों के लिए मजबूत सामाजिक आधार तैयार करने में ‘स्वर्णिम भारत निर्माण’ योजना अत्यन्त लाभदायी है।


अतः हमारा मिषन है संपूर्ण भारत वर्श के प्रत्येक नागरिक को इस परियोजना में पंजीकृत करना तथा जो जरूरतमंद है उसके आर्थिक, षैक्षिक, सामाजिक और राजनैतिक उत्थान में परिणामोन्मुख सहायता प्रदान करना।


विनम्र अपील


    मेरी भारत देष के प्रत्येक नागरिक से विनम्र अपील है कि जो बेरोजगार है, गरीब है अथवा वंचित है, स्वयं व अपने परिवार का इस परियोजना में पंजीकरण करके लाभ अवष्य उठायें।


     मेरी समस्त बुद्धिजीवी वर्ग, जन प्रतिनिधि, राश्ट्रप्रेमी, सक्षम व्यक्तियों, राज्यों एवं केन्द्र सरकार से भी अपील है कि इस परियोजना को पूर्ण रूप से समझें, इसके संचालन में स्वयंसेवक, परियोजना समन्वयक/सामाजिक कार्यकत्र्ता, जनपद स्तर, जिला स्तर, प्रदेष अथवा राश्ट्रीय कार्यकारिणी में पदाधिकारी, सदस्य अथवा संरक्षक के रूप में आयें तथा ‘स्वर्णिम भारत निर्माण’ की परिकल्पना को मूर्तरूप प्रदान कराने में सहयोग प्रदान करें।


     हम अपने विवेकानुसार सरकारी मानकों के अनुरूप एक अत्यंत महत्वपूर्ण योजना पर कार्य कर रहे हैं। अगर कहीं कोई गैर कानूनी है तो कृपया अवगत करायें हम सुधार करेंगे। बिना प्रमाण के कोई भी आरोप लगाना, संस्था अथवा परियोजना को बदनाम करना कदापि देषहित में नहीं है।


     अतः संस्था के विरूद्ध कोई भी कदम उठाने से पहले कृपया उचित माध्यम से संपर्क अवष्य करते हुए न्यायिक प्रक्रियाओं से स्वयं भी बचें एवं हमें भी बचायें। न्यायिक क्षेत्र वर्तमान में जबलपुर (म.प्र.) है।


आओ चलें साथ - साथ, सफलता के कुछ कदम।

 

An Introduction Of Founder President And In Charge Of 'Swarnim Bharat Nirman National Project' "Shubhakansha" in his own words

 

I was born in district Meerut in western UP in a simple family in 1961. I lost my mother in the age of 7 years. I am Science Graduate of 1982. I have passed the Urdu Correspondence course from Jamia Milliya Islamiya University Delhi. I have completed the Hindi journalism Correspondence course from “Patrakarita Mahavidyalya Delhi”. I also have passed the correspondence courses of “ Patrakarita Avom Sampadan”, Lekh Rachna, Patrika Sanchalan, Patkatha Lekhan and Kahani Kala,’ from Kahani Lekhan Mahavidyalya, Ambala Cantt Haryana.

My stories, articles, poems, reports were oftenly published in various magazines during the period of my college time. Some of my Science fiction novels as “Bhayanak Taapu, Antriksh Ke daitya” etc were also published by “Laxmi Publications, Delhi”.

I joined Indian Posts and Telegraph department Delhi in 1984 and joined Indian Army in 1988 on deputation in the Rank of Warrant Officer, equaling to Junior Commissioned Officer. I faced Opreation'Parakarm' of Indian Army and served during “Kargil” war too. I left voluntarily from Indian Army as well as from my parent unit  in 2004.

Whole of my life is full of disturbances, struggles. The main reason for this was that I always thought about the poor people. I always wanted to do something unique to abolish the poverty, to abolish the unemployment problem, to be helpful for whole needy person.

 

It was not possible during government services and hence in the year of 2004 I decided to complete my dreams and prepare a plan to implement. I left from my, job, native place and shifted to the centre of India in Narsinghpur of MP state with the help one of my friend from Army as I always found myself in confidence. I settled here with family.

During the starting days I joined a Weekly Paper “Krantikari Sahara” in Indore as In Charge of National Edition. Later on establish the “Jan sansadhan Vikas Avom Jeev Kalyan Samiti” in 2008 and also got Registered “Swayam Sahara” title for news paper from RNI to implement my project through this organization.

 

I prepared long life plan for this work and decided to work on a model of “Swarnim Bharat Nirman Yojna”. I studied all situations and fixed a target to launch this model throughout India in 2018.

I faced too disturbances, problems, mental tension during this long time and finally we have reached at the target by my hard work and valuable cooperation of many same minded peoples. Now This Model is ready to launch nationwide.

Now I am searching for the appropriate people to hand over this unique system of socialism, business, journalism and politics combination having proper training to them.

I appeal all social minded, good politicians and public representatives as well as administrative personalities to show their interest in the success of this project.

 

                                                                                                                                                                                                                                          

Aao chale Saath- Saath, Safalta Ke Kuchh Kadam…!

                                                                                                             Jaihind...!!
.....................................................................................................................................................................

(संक्षिप्त व्यक्तिगत परिचय)


     मेरा जन्म पष्चिमि उत्तर प्रदेष के मेरठ जिले में सन् 1961 में एक साधारण परिवार में हुआ था। 7 वर्श की आयु में माताजी का साया सिर से उठ गया था।


     कठिन परिश्रम और उलझनों से सामना करते हुए 1982 में विज्ञान से स्नातक पूर्ण किया। ‘पत्रकारिता महाविद्यालय दिल्ली’ से पत्रकारिता में और ‘जामिया मिल्लिया इस्लामिया, विष्वविद्यालय, दिल्ली’ से उर्दू की पढ़ाई पत्राचार माध्यम से की।


     मैंने ‘कहानी लेखन महाविद्यालय’ अम्बाला छावनी, हरियाणा से ‘पत्रकारिता एवं संपादन’, ‘लेख - रचना’, ‘पत्रिका संचालन’, पटकथा लेखन और ‘कहानी कला’ के सर्टिफिकेट कोर्स पूर्ण किये।


     मेरे स्कूल एवं काॅलेज के दिनों में कई पत्र - पत्रिकाओं में कहानियंा, कविता, लेख एवं रिपोटर््स भी छपी। तत्पष्चात् वैज्ञानिक परिकल्पनाओं पर आधारित उपन्यास ‘भयानक टापू’ और ‘अंतरिक्ष के दैत्य’ प्रकाषित भी हुए।


     1984 में मैंने ‘भारतीय डाक एवं टेलीग्राफ विभाग’ दिल्ली में केन्द्र सरकारी की सर्विस ज्वाइन की और यहीं से सन् 1988 में भारतीय सेना में प्रतिनियुक्ति पर चला गया। सेना में मैने जूनियर कमीसन आॅफिसर के समकक्ष पद पर सर्विस करते हुए ‘आपरेषन पराक्रम’ एवं ‘कारगिल’ में अपनी सहभागिता की।


     वर्ष 2004 में मैंने भारतीय सेना एवं केन्द्र सरकार की नौकरी को स्वैच्छिकता से छोड़ दिया।


     मेरा संपूर्ण जीवन कठिनाइयों, संघर्श एवं अथक परिश्रम से पूर्ण रहा। बहुत सारी पारिवारिक, सामाजिक उलझनों से भी जूझना पड़ा। मैंने ये सब सहन किया क्योंकि मैं हमेषा एक अलग सोच रखता रहा। जो भी परेषानी मुझे जीवन में देखने को मिली, मैंने सहर्श सहन किया और हमेषा यह सोच बनायी कि ये परेषानी किसी अन्य को न हो।


     मुख्यतः मेरा दिल हमेषा गरीब, असहाय, असफल लोगों के प्रति बहुत संवेदनषील रहा। मैं हमेषा सोचता रहता था कि अगर व्यक्ति को उचित समय पर उचित मार्गदर्षन और यथोचित आर्थिक सहायता मिल जाये तो वह व्यक्ति अवष्य ही सफल होकर स्वयं का एवं अन्य कई लोगों का भला कर सकेगा।


     मेरे मनमस्तिश्क में इन समस्याओं के निवारण की योजना बहुत पहले से ही फलती फूलती रही थी। बड़े उद्देष्यों की पूर्ति के लिए बड़े और कठोर निर्णय करने ही होते है।


     अतः मैंने भी पूर्ण आत्मविष्वास के साथ वर्श 2004 में कठोर निर्णय लिया तथा अपनी स्थायी केन्द्र सरकार की नौकरी, जन्म स्थान को छोड़कर भारत देष के मध्य में नरसिंहपुर में परिवार सहित आ गया और नये सिरे अपनी जिन्दगी की षुरूआत की।


     नरसिंहपुर में प्रारंभिक समय में ‘इंदौर’ से प्रकाषित ‘क्रंातिकारी सहारा’ समाचार - पत्र के राश्ट्रीय संस्करण का प्रभारी बना।


     तत्पष्चात् अपनी पूर्व निर्धारित योजना के अनुसार 2008 में ‘जन संसाधन विकास एवं जीव कल्याण समिति’ का गठन किया एवं ‘स्वयं सहारा’ नाम से अपना समाचार पत्र भी पंजिकृत किया।


     संस्था के अंतर्गत मैंने ‘स्वर्णिम भारत निर्माण’ की परिकल्पना पर अपनी परियोजना का संचालन प्रारंभ किया तथा सटीक आंकलन करके 10 वर्श पष्चात् 2018 में इस माॅडल का लोकार्पण निष्चित किया।


     गत 10 वर्शों में बहुत तनाव, समस्याओं, संघर्श सहन करते हुए, अपने कई साथियों के साथ और सहयोग से आज मेरा परिवार 44000 से अधिक लोगों का है।


     अब मेरा उद्देष्य इस परियोजना का लोकार्पण करते हुए इसे उन हाथों में सौंपना है जिनके नैतिक, षारीरिक, मानसिक और आर्थिक सहयोग से हम इसे पूर्णता के करीब ला सके।


     मैं पिछले 10 वर्शों के दौरान मिले सभी साथियों का हृदय से आभार व्यक्त करता हूॅ।


     मैं देष के प्रबुद्ध नागरिकों, राश्ट्रप्रेमीयों, सामाजिक संगठनों, व्यापारिक प्रतिश्ठानों, जन प्रतिनिधियों एवं राजनितिक लोगों से अपील करता हूॅ कि इस परियोजना को संचालित करने में सर्वप्रथम नैतिक फिर मानसिक एवं आर्थिक समर्थन एवं योगदान प्रदान करें।


     देष से गरीबी, भुखमरी, बेरोजगारी जैसी सभी समस्याओं का हम इस योजना के माध्यम से काफी सीमा तक समाधान कर पायेंगे। इसके लिए मैं वचनबद्ध हूॅ।


जय हिन्द

.........................................................................................................................................................................................
.........................................................................................................................................................................................

           My Thoughts

 

मेरी विचारधारा


प्रिय देषवासियों,


 बाल्यावस्था में जब मैनें प्रथम बार किसी व्यक्ति को एक कार में सूट-बूट पहने हुए बैठे देखा था तो अपने आदरणीय पिताजी से पूछा था कि हमारे पास ऐसी गाड़ी और अच्छे कपड़े क्यों नहीं हैं ? उनका सीधा उत्तर था कि बेटा ये अमीर लोग हैं। मेरी समझ में अमीरी व गरीबी का भेद नहीं आया था क्योंकि मेरी सोच थी कि एक हष्ट-पुष्ट शरीर व स्वस्थ दिमाग जिस भी व्यक्ति के पास हैं उसके पास वे सारी वस्तुएं होनी चाहिए जो उस जैसे दूसरे व्यक्ति के पास हैं।


       आज मैं जीवन के अनेकानेक संघर्षों से दो-चार होते हुए व्यस्कावस्था की दहलीज पर पहुंच गया हॅू मगर सोच आज भी मेरी वही है जो बचपन में थी। अपने अतीत में, मैं जिन्दगी के खट्टे-मीठे अनुभवों में अपने सवाल का जवाब खोजता रहा हॅू और इस प्रकार आज मैं अमीरी एवं गरीबी को सफलता तथा असफलता शब्दों से परिभाषित करने लगा हॅू।


       एक अमीर व्यक्ति के पास धन हो सकता है मगर एक सफल व्यक्ति के पास धन के साथ यश एवं सम्मान भी होता है। मैने बहुत से ऐसे लोगों की जीवनचर्या का अध्ययन किया है जिनके अन्दर बचपन में सफलता के बहुत से लक्षण विद्यमान थे मगर युवावस्था को पार करते-करते वे असफल हो गये। उनके सपने चूर-चूर हो गये। कुछ लोग ऐसे भी देखने को मिले जो बचपन में बिल्कुल साधारण थे मगर आज वे सफलता की कई सीढ़ियां चढ़ चुके हैं।


       मैने असफलता के कारणों पर काफी खोजबीन की तथा बहुत से लोगों से बातचीत की तो अधिकांश लोगों ने सबकुछ किस्मत पर थोपकर स्वयं को बरी कर लिया। कुछ लोगों ने कई अलग-अलग कारण बताये मगर कुछ लोग ऐसे भी मिले जिन्होने मेरे दिल की बात कही।


       अर्थात जीवन में उचित मार्ग दर्शन का मिलना या न मिलना ही एक ऐसा मुख्य कारण है जो किसी भी व्यक्ति के जीवन को सफलता एवं असफलता की ओर ले जाने में अहम भूमिका निभाता है। मैं अतीत में झाॅककर देखता हॅू तो पाता हॅू कि बहुत से ऐसे असफल लोग मेरे आस-पास हैं जिनको अगर उचित समय पर उचित मार्गदर्शन के साथ-साथ कुछ आर्थिक सहायता भी मिल जाती तो आज वे अपने साथ-साथ देश का भविष्य भी सुधारने में मददगार रहे होते। मैंने जिंदगी के बहुत से ऐसे कटु अनुभवों से बहुत कुछ सीख ली है तथा मानवता के नाते कुछ ऐसे कदम उठाने का निर्णय लिया जिनके द्वारा न  केवल सम्पूर्ण मानव जाति का जीवन सफल बनाने हेतू बल्कि सम्पूर्ण जीवजगत के कल्याण हेतू उचित एवम् सार्थक प्रयास हो।


 


       आज हम लोग चहुॅ ओर देख रहे हैं, चोरी, डकैती, लूट-खसोट, हत्या, आतंकवाद, भ्रष्टाचार, जुआ-सट्टा और बहुत सी भयंकर सामाजिक बुराइयां न केवल हमारे गाॅव-शहर या देश बल्कि सम्पूर्ण दुनिया में सुरसा के मुॅह की तरह बढ़ती जा रही हैं। जरा सोचिए ... आज के युग में हर इंसान किसी न किसी रूप में स्वयं को असुरक्षित महसूस कर रहा है। रूपये  का अवमूल्यन होता जा रहा है, महॅगाई आसमान छूने को तैयार है ... ऐसे में सरकारी या अच्छे रोजगार प्राप्त लोग तो संभवतः गुजारा कर लेने  में सक्षम हैं मगर आम व्यक्ति का क्या होगा...? गरीबी भुखमरी के कारण आत्महत्याओं के मामले बढ़ते जा रहे हैं... जो कुछ साहसी हैं वे तिल-तिल कर मर रहे हैं और सहनशीलता की एक सीमा के बाद वे भी मरने या मारने पर उतारू होगें।


       सभी राजनैतिक पार्टियां, सामाजिक संगठन, तथाकथित समाज सेवक इन सामाजिक बुराइयों के विरूद्ध हैं। बहुत सी योजनाएं सरकारी तंत्र द्वारा तैयार करके संचालित की जाती हैं। प्रतिवर्ष सरकारी बजट में हजारों करोड़ रूपये इन योजनाओं हेतु आवंटित किये जाते हैं। बहुत से सरकारी, गैर सरकारी संगठन इनके विरूद्ध लड़ाई के मैदान में डटे हुए हैं। कुछ लोग महज दिखावे हेतु तो बहुत लोग सही मायने में इन बुराइयों से लड़ रहे हैं। मगर यह सर्वविदित है, कि ये समस्याएं दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रहीं हैं।


       जरा सोचिए! इन समस्याओं पर लगाम कैसे कसी जा सकती है ? आप जो सोचें, ये आपकी सोच है, मगर मेरा मानना है कि इन सभी सामाजिक बुराईयों की जड़ है बेरोजगारी... और इससे भी एक कदम आगे बढ़े तो बेरोजगारी के पीछे भी एक और अति गम्भीर समस्या है वह है अशिक्षा, या यूं कहिए कि गलत शिक्षा। शिक्षा से मेरा तात्पर्य केवल स्कूल या विद्यालय की शिक्षा तक नहीं है बल्कि नैतिक शिक्षा का हमारी जीवन शैली में अत्यंत अभाव है। जब इंसान को ये ही पता नहीं होगा कि हमे क्या करना है, क्या करना चाहिए, तो सफलता भला कैसे मिल सकती है ? हम तो जो सहन कर रहे हैं या करते रहे हैं वह सब ठीक है, मगर सोचने वाली बात यह है कि हम अपनी अगली पीढ़ी को क्या दे रहे हैं ? मित्रों, मैं कोई भाषण नहीं देना चाहता, मेरा उद्देश्य केवल आपको जागृत करना है। हमें इन समस्याओं से जूझना होगा। इन्हे समाप्त करके आगामी पीढ़ी की सफलता हेतु अपना कर्तव्य निर्वाह करना होगा। सोच और नियत ठीक हो तो  कोई  भी  कार्य मुश्किल तो हो सकता है, मगर नामुमकिन नहीं होता। आप लोग मेरा साथ देगें, मेरा हौंसला बढ़ायेंगे ये सब उम्मीद करते हुए मैं एक बहुत कठिन राह पर निकल चला हॅू। किसी भी योजना का प्रारम्भ तो कहीं न कहीं से होता है अतः अशिक्षा, जागरूकता और बेरोजगारी की समस्याओं को किसी हद तक समाप्त करने हेतु मैने कुछ सहयोगियों के साथ मिलकर निस्वार्थ भाव से अपनी अन्र्तात्मा के आदेशानुसार अपनी योजनाओं को अंजाम तक पहुंचाने हेतु वैधानिक तरीकों को अपनाते हुए जन संसाधन विकास एवं जीव कल्याण समिति के नाम से सामाजिक संस्था का गठन किया है।


 


यॅू तो हजारों सामाजिक संस्थाऐं सम्पूर्ण भारत वर्ष में विभिन्न उद्देश्यों को लेकर पंजीकृत हैं, बहुत से दानवीर इन्हे दान राशि तथा अन्य आवश्यक वस्तुएं मुहैया कराते हैं। जैसा कि ऊपर लिखा जा चुका है इन्ही संस्थाओं के माध्यम से प्रति वर्ष हजारों करोड़ के सरकारी बजट का उपयोग, सदुपयोग या दुरूपयोग जो जैसा समझें होता आ रहा है। हो सकता है आप, ‘संस्थाओं, सामाजिक कार्यकर्ताओं’ की कार्य प्रणाली से संतुष्ट हों मगर कम से कम मैं तो पूर्णतः संतुष्ट नहीं हॅू और न ही किसी के विरूद्ध बोलकर किसी कानूनी पचड़े में पड़ना चाहता हॅू। क्योंकि मेरा मानना है कि हमारे लिए समय की कीमत सर्वाेपरि होनी चाहिए, अतः बिना वक्त गवांये हमने स्वयं की समिति का गठन करके अपना कार्य प्रारंभ कर दिया है।


       हमने 50 उद्देश्य पंजीयक महोदय के पास पंजीकृत कराये हैं तथा सभी का मूलभूत उद्देश्य, समाज तथा प्राणीमात्र का कल्याण ही है लेकिन शुरूआत तो कहीं न कहीं से करनी है, सोच को साकार करने हेतु धन की भी आवश्यकता होती है जिसका अभाव है। अतः हमने सभी समस्याओं में अशिक्षा और बेरोजगारी को प्राथमिकता देते हुए, स्वपोषित, स्वरोजगार गरीबी उन्मूलन परियोजना ‘षुभाकांक्षा’ का और व्यवस्थित संचालन एवं आय का स्रोत सुनिष्चित करने के लिए ‘गरीबों की कंपनी’ ‘षुभाकंाक्षा इन्टरप्राईजेज’ का शुभारंभ किया है, जिसमे जो लागत है उसे अति गरीब व्यक्ति द्वारा भी वहन किया जा सकता मगर सफलता की गारंटी शत प्रतिशत है। इस तरह हम, चोर को न मारकर, चोर की माॅ को मारने वाली कहावत को चरितार्थ करते हुए, सभी समस्याओं की जननी को नेस्तनाबूद करने का प्रयास करेंगे।


       मैं पूर्ण विष्वास से कह सकता हूॅ की कालंातर में हमारा अपना बैंक भी होगा, संपूर्ण परियोजना स्वयं संचालित होगी एवं इसका संचालन भारत सरकार ही करेगी।


       जहाॅ तक मेरा प्रश्न है मैं केवल और केवल कर्म पर विश्वास करने वाला व्यक्ति हॅू तथा अन्र्तात्मा के आदेशों का ही सदैव पालन करता हॅू क्योंकि मेरा व्यक्तिगत मानना है आत्मा से परमात्मा। इसके अलावा कहीं कुछ नहीं...।


       मैं तो अपनी एक निश्चित राह पर कुछ निश्चित मानदंडों के साथ निकल पड़ा हूॅ। आप इसे प्रार्थना समझें या अपील मैं इतना तो अवश्य कहना चाहूंगा कि अगर आप सद्चरित्र हैं या होना चाहते हैं, कर्मठ हैं या होना चाहते हैं, जीवन में एक उपयुक्त सफलता की राह की तलाश में अपने तथा अपने घर-परिवार के वर्तमान व भविष्य को लेकर चिंतित हैं... आम जन जीव की भलाई के लिए पूर्णतः समर्पित है तो आप जीवन निर्वाह हेतु जो भी कुछ कर रहे हैं वो करते रहें मगर कुछ कदम इस कारवाॅ में अवश्य चलकर  देखें... हो सकता है आपकी हमारी एक ही मंजिल हो....।


                                                 शुभाकांक्षी.....


                                  एस.पी. शर्मा 

 

 

                                                                                                                                                                              


 

 

Copyright 2009, Jan Sansadhan Vikash & Jeev Kalyan Samiti